टीम इंडिया को मिला नया स्पॉन्सर्स। जर्सी से OPPO गायब हो जाएगा।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on linkedin
Share on telegram

विराट कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम रविवार शाम को जब साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज का आगाज करने उतरेगी, तो उसकी जर्सी पर अब ‘ओप्पो’ नहीं बल्कि ‘बायजूस’ दिखेगा। ओप्पो ने साल 2017 में भारतीय टीम की जर्सी पर प्रायोजन के अधिकार 31 मार्च 2022 तक के लिए खरीदे थे लेकिन अब उसने अपने ये अधिकार ‘ऑनलाइन ट्यूटोरियल फर्म’ बायजूस को स्थानांतरित कर दिए हैं।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टीम इंडिया की जर्सीपर प्रायोजन अधिकार 5 साल के लिए 1079 करोड़ रुपये में इस मोबाइल निर्माता कंपनी को बेचे थे। ओप्पो ने वर्ल्ड कप के बाद अपने इन अधिकारों को बायजूस को स्थानांतरित कर दिए। इससे बीसीसीआई को किसी भी तरह का नुकसान नहीं होगा क्योंकि नई कंपनी पुरानी कंपनी जितनी ही राशि का भुगतान करेगीl
   भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) की जर्सी से चाइनीज कंपनी ओप्‍पो (Oppo) की छुट्टी हो गई है. अब इस पर भारतीय कंपनी बायजू (Byju’s) का नाम लिखा आएगा. भारत (India) और दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के बीच धर्मशाला (Dharamshala) में रविवार को होने वाले पहले टी20 मुकाबले (T20 Match) में टीम इंडिया (Team India)  के खिलाड़ी नए स्‍पॉन्‍सर की जर्सी में उतरेंगे. मैच से पहले अभ्‍यास में भी बायजू का नाम टीम इंडिया की जर्सी पर आ गया है. शनिवार को अभ्‍यास के दौरान टीम इंडिया के खिलाड़ी नई जर्सियों में नजर आए. बता दें कि ओप्‍पो ने टीम इंडिया के स्‍पॉन्‍सर के रूप में 5 साल का करार किया था लेकिन उसने बीच में ही हटने का फैसला किया और अपना सौदा बायजू को ट्रांसफर कर दिया.2017 में ओप्पो ने टीम इंडिया की जर्सी पर टाइटल स्पॉन्सर के राइट्स 1079 करोड़ में खरीदे थे.रिपोर्ट्स के मुताबिक ओप्पो को यह डील बहुत महंगी साबित हो रही थी. विराट कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम रविवार शाम को जब साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज का आगाज करने उतरेगी, तो उसकी जर्सी पर अब ‘ओप्पो’ नहीं बल्कि ‘बायजूस’ दिखेगा। ओप्पो ने साल 2017 में भारतीय टीम की जर्सी पर प्रायोजन के अधिकार 31 मार्च 2022 तक के लिए खरीदे थे लेकिन अब उसने अपने ये अधिकार ‘ऑनलाइन ट्यूटोरियल फर्म’ बायजूस को स्थानांतरित कर दिए हैं।


भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने टीम इंडिया के जर्सी पर प्रायोजन अधिकार 5 साल के लिए 1079 करोड़ रुपये में इस मोबाइल निर्माता कंपनी को बेचे थे। ओप्पो ने वर्ल्ड कप के बाद अपने इन अधिकारों को बायजूस को स्थानांतरित कर दिए। इससे बीसीसीआई को किसी भी तरह का नुकसान नहीं होगा क्योंकि नई कंपनी पुरानी कंपनी जितनी ही राशि का भुगतान करेगी।


अब बायजूस और ओप्पो ने इन अधिकारों पर समझौता कर नियमों के मुताबिक बीसीसीआई से इसकी मंजूरी ले ली थी। बोर्ड ने जुलाई में ही इसकी घोषणा सार्वजनिक कर दी थी कि सितंबर से टीम इंडिया अपनी जर्सी पर ओप्पो का नहीं बल्कि बायजूस का लोगो लगाकर खेलेगी।


अब बायजूस और ओप्पो ने इन अधिकारों पर समझौता कर नियमों के मुताबिक बीसीसीआई से इसकी मंजूरी ले ली थी। बोर्ड ने जुलाई में ही इसकी घोषणा सार्वजनिक कर दी थी कि सितंबर से टीम इंडिया अपनी जर्सी पर ओप्पो का नहीं बल्कि बायजूस का लोगो लगाकर खेलेगी।

FOLLOW US

POPULAR NOW

RELATED