बिहार:आज 12 बजे प्रधानमंंत्री नरेन्द्र मोदी बिहार से जुड़ी तीन प्रमुख परियोजनाओं को देश को समर्पित करेंगे।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on linkedin
Share on telegram

नई दिल्ली:-13 सितंबर को बिहार में पेट्रोलियम क्षेत्र से संबंधित तीन प्रमुख परियोजनाओं को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से राष्ट्र को समर्पित करेंगे। परियोजनाओं में पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर पाइपलाइन विस्तार परियोजना के दुर्गापुर-बांका खंड और दो एलपीजी बॉटलिंग प्लांट शामिल हैं। ये परियोजनाएं पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के देख रख में इंडियनऑयल और एचपीसीएल, पीएसयू द्वारा कमीशन किया गया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे।

पाइप लाइन परियोजना का दुर्गापुर-बांका खंड

इंडियन ऑयल द्वारा निर्मित 193 किलोमीटर लंबी दुर्गापुर-बांका पाइपलाइन खंड, पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर पाइपलाइन विस्तार परियोजना का एक हिस्सा है।जिसकी आधारशिला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2019 में 17 फरवरी को रखी थी।

दुर्गापुर-बांका खंड बिहार में बांका में नए एलपीजी बॉटलिंग संयंत्र के लिए मौजूदा 679 किलोमीटर लंबी पारादीप-हल्दिया-दुर्गापुर एलपीजी पाइपलाइन का विस्तार किया गया है।जो कि चौदह इंच की मोटी पाइपलाइन द्वारा तीन राज्यों से होकर गुजरती है।

पश्चिम बंगाल (60 किमी), झारखंड (98 किमी), और बिहार (35 किमी)। वर्तमान में, एलपीजी इंजेक्शन पारादीप रिफाइनरी, हल्दिया रिफाइनरी और आईपीपीएल हल्दिया से पाइपलाइन प्रणाली में बनाया जा सकता है। पूरी परियोजना के पूरा होने पर, एलपीजी इंजेक्शन की सुविधा पारादीप आयात टर्मिनल और बरौनी रिफाइनरी से भी उपलब्ध होगी।

दुर्गापुर-बांका सेक्शन के नीचे पाइप लाइन बिछाने के लिए कई तरह के प्राकृतिक और मानव निर्मित रुकावटों को दूर करना पड़ा है। जिसमें तेरह नदियों (जिनमें से 1077 मीटर लंबाई की अजय नदी है),पांच राष्ट्रीय राजमार्ग, और तीन रेलवे क्रॉसिंग सहित कुल 154  रुकावटों को दूर किया गया था। पानी के प्रवाह को परेशान किए बिना अत्याधुनिक क्षैतिज दिशात्मक ड्रिलिंग तकनीक के माध्यम से पाइपलाइन को रिवरबेड के नीचे रखा गया था।

बांका, बिहार में एलपीजी बॉटलिंग प्लांट

बांका स्थित इंडियन ऑयल का एलपीजी बॉटलिंग प्लांट राज्य में एलपीजी की बढ़ती मांग को पूरा करते हुए बिहार के “आत्मनिर्भर भारत” अभियान को बढ़ाएगा। यह बॉटलिंग प्लांट बिहार के भागलपुर, बांका, जमुई, अररिया, किशनगंज और कटिहार जिलों के साथ-साथ गोड्डा, देवघर, दुमका, साहिबगंज और झारखंड के पाकुड़ जिलों में सुविधाएं उपलब्ध होगी। इस प्लांट को लगभग 131.75 करोड़ रुपए की लागत से बनाया गया है।

1800 एमटी की एलपीजी भंडारण क्षमता और प्रति दिन 40 हजार सिलेंडरों की बॉटलिंग क्षमता के साथ, यह प्लांट बिहार राज्य में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार के अवसर पैदा करेगा।

बिहार के चंपारण के हरसिद्धि में एलपीजी प्लांट

एचपीसीएल के 120 टीएमटीपीए एलपीजी बॉटलिंग प्लांट का निर्माण पूर्वी चंपारण जिले के हरसिद्धि में किया गया है। जो कि 136.4 करोड़ रूपए की लागत से बनाया गया है।इस प्लांट के निर्माण में 29 एकड़ जमीन राज्य सरकार ने उपलब्ध कराई थी।इसकी आधारशिला प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी ने 2018 में 10 अप्रैल को रखी थी।

यह बॉटलिंग प्लांट बिहार के पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, मुजफ्फरपुर, सिवान, गोपालगंज और सीतामढ़ी जिलों की एलपीजी आवश्यकता को पूरा करेगा।

FOLLOW US

POPULAR NOW

RELATED