SIWAN EXPRESS NEWS

आपके काम कि हर खबर

क्या देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश की जासूसी कराई?पाकिस्तानी पत्रकार और तत्कालीन कार्यक्रम ऑर्गनाइजर के दावों में कितना दम।

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on linkedin
Share on telegram

Insert Your Ads Here

नई दिल्ली:- पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा ने एक साक्षात्कार में कहा है कि तत्कालीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने उन्हें आतंकवाद पर एक सम्मेलन में भाग लेने के लिए भारत आमंत्रित किया था, और उन्होंने भारत की अपनी यात्राओं के दौरान जानकारी एकत्र की थी, जो उन्होंने आईएसआई के साथ साझा किया।

क्या देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश की जासूसी कराई?पाकिस्तानी पत्रकार और तत्कालीन कार्यक्रम ऑर्गनाइजर के दावों में कितना दम।
क्या देश के उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश की जासूसी कराई

जवाब में, श्री हामिद अंसारी और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव श्री जयराम रमेश ने कहा हैै, कि श्री अंसारी ने केवल “अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद और मानवाधिकारों पर न्यायविदों के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन” में भाग लिया था। उन्होंने इस बात का खंडन किया है कि हामिद अंसारी ने नुसरत मिर्जा को भारत आमंत्रित किया था या मिस्टर मिर्जा से मुलाकात की थी।तबसे इसपर बवाल मचा है,की क्या देश के पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश की जासूसी करवाई?

तत्कालीन कार्यक्रम ऑर्गनाइजर डॉ. आदिश सी. अग्रवाल का दावा।

डॉ. आदिश सी. अग्रवाल कहते है,की  2010 मैं अभिलेखों के आधार पर तथ्यों को रखना चाहता हूं।

डॉक्टर आदिश अग्रवाल(फाइल फोटो) काले कपड़ों में।
डॉक्टर आदिश अग्रवाल(फाइल फोटो) काले कपड़ों में।

अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद और मानवाधिकार पर न्यायविदों का अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन 11 और 12 दिसंबर, 2010 को विज्ञान भवन, नई दिल्ली में आयोजित किया गया था। तत्कालीन उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने सम्मेलन में भाग लिया था लेकिन नुसरत मिर्जा न तो आमंत्रित थे और न ही वह इसमें शामिल हुए थे। यहां तक ​​कि नुसरत मिर्जा ने भी अपने इंटरव्यू में इस कॉन्फ्रेंस का जिक्र नहीं किया है।

https://siwanexpress.com/patnassp-pfi-bjp/

मुझे अच्छी तरीके से याद है कि जब पूर्वोक्त सम्मेलन आयोजित किया जा रहा था, सम्मेलन में भाग लेने के लिए एक निमंत्रण भारत के उपराष्ट्रपति के रूप में श्री हामिद अंसारी को भेजा गया था। श्री अशोक दीवान, जो उस समय उपाध्यक्ष सचिवालय के निदेशक के रूप में कार्यरत थे, ने मुझे सूचित किया था कि उपराष्ट्रपति चाहते हैं कि पाकिस्तानी पत्रकार श्री नुसरत मिर्जा को सम्मेलन में आमंत्रित किया जाए, हालांकि, हम अनुरोध को स्वीकार नहीं कर सके क्योंकि श्रीमान मिर्जा पाकिस्तानी मीडिया से थे और हमने पाकिस्तान से जजों या वकीलों को आमंत्रित नहीं किया था। जब श्री दीवान को पता चला कि हमने श्री मिर्जा को उप-राष्ट्रपति जी के आग्रह के बावजूद आमंत्रित नहीं किया है। सम्मेलन से एक दिन पहले दीवान ने मुझे फोन किया और उपराष्ट्रपति के प्रति नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने मुझे यह भी बताया कि श्री हामिद अंसारी को बुरा लगा है और अब वे केवल बीस मिनट के लिए उद्घाटन समारोह में शामिल होंगे, हालांकि उन्होंने शुरू में एक घंटे के लिए कार्यक्रम में भाग लेने के लिए सहमति व्यक्त की थी। अगले दिन, श्री अंसारी बीस मिनट के बाद ही समारोह से चले गए, जैसा कि श्री दीवान द्वारा सूचित किया गया था।

कुछ कांग्रेसी नेता श्री हामिद अंसारी की नुसरत मिर्जा के साथ कथित मुलाकात को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं और सोशल मीडिया पर इस तरह के आक्षेप और परोक्ष बयान दे रहे हैं कि श्री नुसरत मिर्जा मेरे द्वारा आयोजित सम्मेलन में शामिल हुए थे। वे इस तथ्य से लाभ उठाने की कोशिश कर रहे हैं कि मैं ब्रिटिश लेखक सारा मार्चिंगटन और “नरेंद्र मोदी: हार्बिंगर ऑफ प्रॉस्पेरिटी एंड एपोस्टल ऑफ वर्ल्ड पीस” के साथ “नरेंद्र मोदी – एक करिश्माई और दूरदर्शी राजनेता” शीर्षक से प्रधान मंत्री की आत्मकथाओं का सह-लेखक हूं।

अमेरिकी कवयित्री और लेखक सुश्री एलिज़ाबेथ होरान के साथ और श्री अंसारी की स्क्रीनिंग के लिए प्रधान मंत्री मोदी का नाम इस मामले में उलझाने के लिए गैर-जिम्मेदाराना आग्रह कर रहे हैं। गलत बयान दिए गए कि “मोदी भक्त” डॉ. आदिश सी. अग्रवाल ने नुसरत मिर्जा को सम्मेलन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया था और सच्चाई को दबाने के लिए विवाद में मेरा नाम खींचा गया था। श्री अंसारी को न्यायविदों के सम्मेलन के पीछे खुद को ढालने की सलाह दी गई हो सकती है क्योंकि इसमें राष्ट्रपतियों, प्रधानमंत्रियों, मुख्य न्यायाधीशों, राष्ट्रपतियों (मुख्य न्यायाधीशों), उपाध्यक्षों और अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीशों सहित कानून मंत्रियों ने भाग लिया है, और इस प्रकार है सम्मेलनों की मेजबानी करने वाले संबंधित देशों के सभी मानदंड।

वास्तविक घटना जिसमें श्री अंसारी और श्री मिर्जा ने एक साथ भाग लिया, वह न्यायविदों का सम्मेलन नहीं है जैसा कि श्री अंसारी और उनके समर्थकों द्वारा चित्रित करने का प्रयास किया गया था। उक्त घटना, जिसे स्पष्ट कारणों से श्री हामिद अंसारी और श्री जयराम रमेश ने अपने सार्वजनिक बयानों में रोक दिया था, 27 अक्टूबर, 2009 को ओबेरॉय होटल, नई दिल्ली में आयोजित जामा मस्जिद यूनाइटेड फोरम द्वारा आयोजित “आतंकवाद के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन” है। श्री हामिद अंसारी, दिल्ली जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी, डॉ फारूक अब्दुल्ला और अन्य मुस्लिम नेताओं ने भाग लिया।

ऐसा प्रतीत होता है कि श्री हामिद अंसारी और श्री जयराम रमेश ने सरकारी एजेंसियों और जनता को गुमराह करने के लिए जामा मस्जिद यूनाइटेड फोरम के सम्मेलन के बारे में खुलासा नहीं करने का फैसला किया। संभवत: उन्होंने न्यायविदों के सम्मेलन के पीछे शरण लेना उचित समझा ताकि श्री अंसारी को उक्त सम्मेलन के अभिलेखों की जांच पर क्लीन चिट मिल जाए।श्री हामिद अंसारी, श्री जयराम रमेश और अन्य कांग्रेस पदाधिकारियों द्वारा दिए गए बयान स्पष्ट रूप से विकृत, पूरी तरह से असत्य और निंदनीय रूप से बेईमान हैं।

यह आश्चर्यजनक है कि देश का एक पूर्व उपराष्ट्रपति गुप्त गतिविधियों में लिप्त हो जाता है और फिर जनता को भटकाने के लिए एक और असंबद्ध घटना के पीछे छिपने की कोशिश करता है। सच्चाई को उजागर करने के लिए, मैं दोहराता हूं कि श्री हामिद अंसारी और उनके मित्र ज़ामा मस्जिद यूनाइटेड फोरम के सम्मेलन में श्री नुसरत मिर्जा के साथ मुलाकात कर रहे थे। उन्होंने धोखे से और जानबूझकर न्यायविदों के सम्मेलन का नाम दिया, जिसमें श्री हामिद अंसारी ने इस धारणा पर भाग लिया था कि कोई भी सच्चाई तक नहीं पहुंचेगा। श्री हामिद अंसारी ने उक्त कार्यक्रम में श्री नुसरत मिर्जा के साथ मंच साझा किया था।

इसका तात्पर्य यह है कि श्री मिर्जा उक्त कार्यक्रम में या तो श्री हामिद अंसारी के निमंत्रण पर या कम से कम पूर्व जानकारी और सहमति से उपस्थित थे। यह खेदजनक है कि श्री हामिद अंसारी अब इस मामले से हाथ धोने की कोशिश कर रहे हैं और श्री नुसरत मिर्जा द्वारा अपने करीबी संबंध का खुलासा करने के बाद उक्त व्यक्ति से खुद को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं। मैं इसके साथ एक तस्वीर संलग्न कर रहा हूं जिसमें श्री हामिद अंसारी उक्त कार्यक्रम में मंच साझा कर रहे हैं।हम भारत सरकार से इस मामले की जांच शुरू करने का अनुरोध करते हैं क्योंकि मामला राष्ट्रीय सुरक्षा और जासूसी से संबंधित है। जामा मस्जिद यूनाइटेड फोरम सम्मेलन के रिकॉर्ड जो जाहिर तौर पर सार्वजनिक डोमेन में नहीं हैं, उन्हें पुनः प्राप्त करने और उनका विश्लेषण करने की आवश्यकता है। यह इंगित किया जा सकता है कि इस तरह के प्रत्येक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन केंद्रीय गृह मंत्रालय और केंद्रीय विदेश मंत्रालय की मंजूरी प्राप्त करने के बाद ही किया जा सकता है, भारत कानून के शासन द्वारा शासित देश है और हम थॉमस के अमर शब्दों में व्यक्त न्यायशास्त्रीय सिद्धांत में दृढ़ता से विश्वास करते हैं। ‘तुम कभी इतने ऊंचे मत बनो, कानून तुम्हारे ऊपर है।’ इसलिए भारत के एक पूर्व उपराष्ट्रपति को उन कृत्यों के लिए जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए जो अपने नागरिकों के जीवन को खतरे में डालते हैं।

जब भी किसी कार्यक्रम में भारत के राष्ट्रपति, भारत के उपराष्ट्रपति या भारत के प्रधान मंत्री जो मंच को सुशोभित करते हैं, मंच को साझा करने वाले सभी व्यक्तियों के नामों को पहले उक्त नेता द्वारा मंजूरी दी जाती है। जाहिर है कि उस दिन मंच पर मौजूद लोगों के नाम को श्री अंसारी ने मंजूरी दी थी।

उपरोक्त वक्तव्य तत्कालीन कार्यक्रम ऑर्गनाइजर डॉ. आदिश सी. अग्रवाल का हैं।जो की उन्होंने प्रेस स्टेटमेंट में जारी किया है।

डॉ. आदिश सी अग्रवाल
अध्यक्ष, अंतर्राष्ट्रीय न्याय परिषद्
अध्यक्ष, अखिल भारतीय बार एसोसिएशन
संयोजक, भारतीय न्याय परिषद्
आयोजक, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद और मानवाधिकार पर न्यायविदों का अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन।

नुसरत मिर्जा का दावा

पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा ने जो भारत में ISI के लिए जानकारी जुटाता था।नुसरत मिर्जा ने दावा किया है कि वह हामिद अंसारी के उप-राष्ट्रपति रहते उनका मेहमान बन कर भारत आया था और 15 राज्यों का दौरा कर ISI के लिए सूचनाएं इकट्ठी की, जासूसी की। नुसरत मिर्जा ने दावा किया कि उस दौरान 56 मुस्लिम सांसद थे भारत में, जो उनके दोस्त हैं और काफी मददगार रहे। उसे भारत के तीन शहरों की जगह पांच शहरों में जाने की अनुमति मिल जाती थी. दिल्ली, बेंगलुरु, चेन्नई, पटना और कोलकाता भी गया और जानकारियां एकत्रित कर ISI को सौंपी।

हामिद अंसारी ने खंडन किया।

हामिद अंसारी के कार्यालय से जारी पत्र।
हामिद अंसारी के कार्यालय से जारी पत्र।

हालांकि इस संबंध में पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यालय द्वारा एक वक्तव्य जारी कर कहा गया है,की वह अपने पहले वाले बयान पर कायम है कि वह कभी भी पाकिस्तानी पत्रकार नुसरत मिर्जा से ना मिले हैं, और नाही किसी भी कार्यक्रम में कभी आमंत्रित किया है,चाहे वह 2010 में आयोजित कांफ्रेंस हो या 2009 में आयोजित आतंकवाद पर कांफ्रेंस हो।

Insert Your Ads Here

FOLLOW US

POPULAR NOW

RELATED